अश्वगंधा के फायदों और नुकसान के बारे में जरूर जानें ashwagandha benefits and side effects in hindi

ashwagandha ke fayde aur nuknas

अश्वगंधा क्या है ?

आप लोगों ने तो अस्वगंधा के बारे में तो सुना ही होगा , यदि आप ने नहीं सुना तो हम आपको अश्वगंधा के बारे में देंगे पूर्ण जानकारी। अश्वगंधा एक प्रकार की औषधि है अश्वगंधा को आयुर्वेद में बहुत प्रभावीशाली औषधि माना गया है।
 
 
अस्वगंधा की सुगंध एकदम घोड़े की सुगंध के सामान आती है। अश्वगंधा एक झड़ीदार पौधा होता है जो हमारे शरीर के कई विकारों के लिए संजीवनी बूटी के रूप में काम आता है इसका वैज्ञानिक नाम विदानियां सोमनिफेरा है। 
इसे अलग-अलग अस्थानों में अलग-अलग नामों से जाना जाता है। जैसे असगंध , नागौरी असगंध , नागौरी , विंटर चेअरी , इंडियन जेएसोंग के नाम से जाना जाता है। 

अस्वगंधा के फायदे 

अश्वगंधा लम्बाई बढ़ाने में फायदेमंद 
जिन लोगों की लम्बाई नहीं बढ़ती या बौनेपन के शिकार होते हैं उन लोगों को तो अस्वगंधा का सेवन अवश्य करना चाहिए। अस्वगंधा का चूर्ण १ चमच्च सुबह एक चम्मच शाम को गर्म दूध में खाने से लम्बाई तेजी से बढ़ने लगती है व बजने पैन की समस्या से छूटकारा मिलता है। 
 
अश्वगंधा शुगर में फायदेमंद 
जिन लोंगो को सुगर की समस्या रहती है उन लोंगो को अस्वगंधा का सेवन अवश्य करना चाहिए। अस्वगंधा का सेवन करने से हमारे नर्वस सिस्टम पर सीधा असर  करता है तथा हमारी कमजोर नसों को ताकत देता है इसके साथ ही यह सुगर को कण्ट्रोल करता है। 
 
अश्वगंधा पेट  की सूजन में फायदेमंद 
पेट से जुडी सभी समस्याओं में अस्वगंधा बहुत ही फायदेमंद है। अस्वगंधा पाउडर  को पानी या गर्म दूध के साथ ले सकते है इसका लगातार सेवन करने से पेट की सूजन कम  होती है। अस्वगंधा को पानी में मिलाकर सूजन की जगह पर लेप लगाने  से सूजन में कमी होती है। 
 
अश्वगंधा वजन  बढ़ाने में  फायदेमंद 
जो लोग  दुबले-पतले व  कमजोर होते है वो लोग अस्वगंधा का सेवन दूध व शहद को मिलाकर करने से वजन में वृद्धि  होने लगती है तथा कमजोरी में भी काफी असरदार  होता है। 
 
अश्वगंधा रिकेट्स रोग मे फायदेमंद 
रिकेट्स रोग में हाँथ व पैरों   सूख जाना तथा पेट बाहर  निकल आता है यह बीमारी बच्चों में अधिक होती है इस बीमारी से छुटकारा पाने के लिए गर्म दूध और देशी घी व अश्वगंधा का नियमित रूप से सेवन करें। 
 
अश्वगंधा थायराइड में फायदेमंद 
जिन लोगों का थायराइड बढ़ा हुवा रहता है उन लोगों को अश्वगंधा का सेवन करने से थायराइड कंट्रोल  रहता है। बढ़े हुए थायराइड को हम hypothayroid कहते हैं बढ़े हुए थाइरॉइड में वजन तेजी से बढ़ने लगता है  समस्या से छुटकारा पाने  लिए अश्वगंधा को गर्म पानी  के साथ लगातार सेवन करें।  
 
अश्वगंधा गुर्दों में फायदेमंद 
जिन लोगों को पेशाब में जलन व पेशाब रुक रुक के आती है उन्हें अश्वगंधा का सेवन  जरुरी है अस्वगंधा का लगातार सेवन  पेशाब खुल के होती  है  गुर्दों  को मजबूती देता  है और गुर्दों में पथरी जैसी समस्या से दूर रखता है।
 
अश्वगंधा बालों के लिए फायदेमंद  
जिन लोगों के बााल झड़ना व बाल सफ़ेद होने जैसी समस्या में काफी लाभ दायक है अश्वगंधा का पाउडर और भृंग राज पाउडर व मिश्री को बराबर भागों को मिलाकर गाय के दूध के साथ सुबह शाम सेवन करने से  काफी मिलेगा।  
 
अश्वगंधा ब्लड प्रेसर में फायदेमंद 
जिन लोगों का B P बढ़ा हुआ  रहता और कोलेस्ट्रॉल स्तर बढ़ा हुआ रहता है तथा जिनको हार्ट की प्रॉब्लम है उन  लोगों को अश्वगंधा लेना बहुत फायदे मंद है। 
 
अश्वगंधा कैंसर में फायदे मंद 
जो लोग कैंसर जैसी बीमारी के शिकार है वो लोग अस्वगंधा को गुनगने पानी के साथ लेने से कैंसर कोशिकाओं को खत्म करता है। 
 
अश्वगंधा गठिया में फायदेमंद  
जिन लोंगो के जोड़ो में दर्द व जोड़ों में सूजन है तो अस्वगंधा और हल्दी को गाय दूध के साथ उपयोग में लेने से गठिया की समस्या से राहत मिलती है। अस्वगंधा का पाउडर को थोड़े पानी में मिलाकर दर्द वाली  जगह पर लेप लगाने से आराम मिलता है। 
 
अश्वगंधा कब्ज में फायदे मंद 
कब्ज की समस्या से छुटकारा पाने के लिए अस्वगंधा को गुनगुने पानी या दूध के साथ सेवन करने से कब्ज से राहत मिलती है। 
 
अश्वगंधा टी. बी. में फायदेमंद 
टी. बी. रोग से ग्रषित लोगों को अस्वगंधा और लहसुन की दो कली के साथ सुबह शाम लेने से टी. बी. में होने वाली दर्द में काफी आराम मिलता है। 
 
अश्वगंधा चयापचय में फायदे मंद 
अश्वगंधा एक एंटीऑक्सीडेंट का अच्छा स्रोत है यह एंटीऑक्सीडेंट चयापचय (मेटाबॉलिज़्म)की प्रक्रिया के दौरान उत्पन्न मुकत कण  साफ और निष्क्रिय करने अत्यधिक साहयक है। 
 
प्रतिरक्षा प्रणाली में  फायदेमंद 
रिसर्च में पता चला है कि अस्वगंधा का उपयोग करने से प्रतिरक्षा प्रणाली में सहायक है। चूहों के ऊपर रिसर्च में  पता  है कि अश्वगंधा के सेवन करने से चूहों में लाल  कोशिका और सफ़ेद रक्त कोशिकाओं में वृद्धि  हुवी है। इससे यह  है की मनुष्यों की लाल रक्त कोशिका पर  अश्वगंधा के सेवन से सकारात्मक प्रभाव देखे जा सकतें है। जिससे एनेमियाँ जैसी समस्या में मददगार है।
 

अस्वगंधा लेने का तरीका 

अश्वगंधा  कैप्सूल और पाउडर  के रूप किसी भी मेडिकल स्टोर पर आसानी के साथ मिल जाता  है, आप किसी भी अच्छी ब्रांड का ले सकते हैं।   इसको इस्तेमाल  में  लाने के लिए डिब्बे  पर दिए गए डोग के हिसाब से इस्तेमाल करें। 
 
 

 अश्वगंधा लेने से नुक़सान 

1. अश्वगंधा गर्भवती महिलाओं को नहीं लेंना चाहिए क्यूँकि इसकी तासीर बहुत गर्म होती है। जिनको पित्त         सम्बंधित समस्या है व गैस ज़्यदा बनती है तथा जिनको ब्लड प्रेसर लो रहता है उनको नहीं लेना चाहिए।   अस्वगंधाको लेना है तो आप  डॉक्टर की परामर्श अवस्य लें। 

2. अश्वगन्धा की तासीर गर्म होती है इसी लिए अश्वगंधा का अधिक सेवन करने से उल्टी, निद्रा और गैस जैसी समस्या से सामना करना पड़ सकता है 
 
3. अश्वगंधा का सेवन  करते समय  नशीले पदार्थों का सेवनं  नहीं करना चाहिए क्यूंकि सकारात्मक प्रभाव की  जगह  नकारात्मक प्रभाव पड़ने लगते हैं। 
 
4. अस्वगंधा का अधिक इस्तेमाल करने से हमारे शरीर के केंद्रीय तंत्रिका अवसाद उत्पन्न हो जाता है। 
 
5. विषेशज्ञों की  माने तो गर्भधारण के समय  इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। 

Leave a Comment