टेस्टोस्टेरोन हार्मोन के बारे में जरूर जाने जो पुरुषों के लिए है जरुरी, Increase Testosteron in Hindi

 

टेस्टोस्टेरोन एक स्टेरॉयड है जो हमारा शरीर खुद बनाता है। आम तौर पर,टेस्टोस्टेरोन को बाहर या किसी अन्य स्रोत से लेने की आवश्यकता नहीं होती है, अगर हम एक संतुलित आहार लेते हैं तो टेस्टोस्टेरोन हमारे शरीर में स्वचालित रूप से बनता है।

 

टेस्टोस्टेरोन आमतौर पर शरीर के दो भागों में बनता है, पहला है वृषण और दूसरा है मासिक धर्म की गुहा, जहां 90 प्रतिशत तक टेस्टोस्टेरोन बनता है, और 5 प्रतिशत तक अधिवृक्क ग्रंथि अधिवृक्क ग्रंथि द्वारा महिलाओं में निर्मित होती है । , जो पुरुषों की तुलना में बहुत कम है। एक स्वस्थ आदमी में, टेस्टोस्टेरोन का 50 मिलीग्राम रोजाना बनाया जाता है, जिसे बहुत अच्छा माना जाता है, अगर किसी व्यक्ति में 20 से 30 मिलीलीटर टेस्टोस्टेरोन रोजाना बनाया जाता है, जिसे बहुत कम माना जाता है।

 

टेस्टोस्टोरोन हॉर्मोन के कार्य 

टेस्टेस्टोरॉन एक मरदाना हार्मोन है और ये शरीर के अंदर बहुत से काम करता है ये आदमी की मरदाना ताकत बढ़ाने के साथ-साथ उसके बाल की प्रोडक्शन,पेनिस की लम्बाई, स्पर्म प्रोडक्शन, सेक्सुल पॉवर बढ़ता है, तनाव को कम करने में मदत करता है शरीर की मशल्स ,और हड्डियों की ग्रोथ आदि में आवश्यक होता है| 

 

16  साल की उम्र से 30 साल तक की उम्र तक यह अधिक बनता है लेकिन 30 साल के बाद इस हार्मोन्स की उम्र के हिसाब से कमी होने लगती है, इसका होना पुरुषों के लिए बहुत आवश्यक है, इसकी कमी से शरीर में कई प्रकार की कमियां देखने को मिलती हैं 

 

टेस्टेस्टोरॉन की कमी से दिखने वाले लक्षण 

शारीरक व मानसिक कमियां 

1 शारीरिक ऊर्जा  की कमी, थकावट 

2 तनाव में रहना 

3 स्वभाव में बदलाव 

4 वजन का बढ़ना 

5 आत्मसम्मान में कमी

 6 एकाग्रता में कमी 

7 बालों का गिरना  

8 शरीर पर बालों का न आना

 9 कम दाढ़ी आना 

10 वीर्य की मात्रा कम होना  

11 मासपेशियों का न बनना आदि | 

 

टेस्टेस्टोरॉन कम  होने के कारण 

 

टेस्टेस्टोरॉन आम तौर पर उम्र के हिसाब से कम होता जाता है जैसे- जैसे व्यक्ति की उम्र कम होती है वैसे वैसे टेस्टेस्टोरॉन  लेवल कम होना सुरु हो जाता है, लेकिन आजकल देखा जा रहा है की युवा पीढ़ियों में भी टेस्टेस्टोरॉन की कमी हो रही है जो युवा 20 – 25 उम्र  के आस पास हैं उनमें भी इस हार्मोन्स की कमी देखी जा रही है इसके कई कारण हो सकते है ,

 

जैसे- अधिक मात्रा में स्टोरॉइड लेना या लगातार कई ऐसी दवाइयों का इस्तेमाल करना  जिससे हॉर्मोन्स डिसॉर्डर होना जो लोग स्पोर्ट्स से जुड़े होते है या बॉडीबुलडिंग करते है उन लोगों को ज्यादा समस्याएं हो रही है, ऐसे लोग अपने मशल्स और परफॉरमेंस को जल्दी बढ़ाने के चक्कर में ऐसे सप्लीमेंट व स्टोरॉइड ले लेते हैं जो उनके टेस्टेस्टोरॉन को धीमा कर देती है, इसके अलावा , शराब व तम्बाकू का सेवन करने के कारण , pituitary gland का inbalance होने के कारण भी टेस्टोस्टेरोन में कमी आ जाती है|

  

टेस्टेस्टोरॉन बढ़ाने के घरेलु और नेचुरल उपाय 

 

यदि किसी व्यक्ति की उम्र 20 से 40 के बिच और आपका टेस्टोस्टेरोन  कम है तो आपको तुरंत दवाइयों का सहारा नहीं लेना चाहिए ,  हम कुछ ऐसे घरेलु उपाय बताएँगे जिनको फॉलो करके आप अपना टेस्टोस्टेरोन लेवल को  पहले से बेहतर  कर सकते हैं जो आपके लिए काफी सुरच्छित  रहेगा | 

 

डाइट द्वारा 

एक अच्छी डाइट हमारे शरीर को रोगों से  बचाती है, अगर हम बैलेंस डाइट लेते हैं तो हम अनेक बिमारियों को होने से रोक सकते हैं, अगर कोई व्यक्ति हेल्थी डाइट लेता है तो हमें टेस्टोस्टेरोन की कमी कभी नहीं होगी, टेस्टोस्टेरोन को बढ़ाने के लिए जो नुट्रिएंट्स  की जरुरत होती है वो है विटामिन D विटामिन A,  विटामिन B काम्प्लेक्स, जिंक, ओमेगा 3, प्रोटीन और आयरन, ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए जिनके अंदर यह सारी चीजें मौजूद हों,

डाइट में हमें दूध, दही ,चीज, मक्खन ,फलों में – केला, एवाकेडो, अनार, पाइनएप्पल , सब्जियों में- पालक, प्याज, अदरख, लहसुन, आयल में ऑलिव आयल टेस्टोस्टेरोन बढ़ने में सबसे बेहतर है, आप अपनी डाइट में नट्स को शामिल करें बादाम, काजू , अखरोट, मूंगफली,इसके अलावा राजमा, ओट्या दलिया आदि का सेवन करने से आपका टेस्टोस्टेरोन  लेवल बढ़ेगा।  अगर आप अनार के दाने दही में मिला कर उनका सेवन करते हैं तो आपको बहुत ही अच्छा रिजल्ट मिलेगा | 

 

 

टेस्टेस्टोरॉन बढ़ाने की मांसाहारी डाइट

मछली, अंडे ,चिकेन। 
 

व्यायाम से टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने के तरीके

आमतौर पर देखा गया है की जो व्यक्ति प्रतिदिन व्यायाम करते हैं ऐसे व्यक्तियों के टेस्टोस्टेरोन की मात्रा में कमी नहीं होती, प्रतिदिन व्यायाम करने से ऊर्जा और सहनशीलता को बढ़ती है और अच्छी नींद  लेने में मदत करता है इसके अलावा व्यायाम करने से आपका वजन कंट्रोल में रहता है जिससे टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने में मदत मिलती है|  

 

टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने के लिए व्यायाम करना एक कारगर तरीका है व्यायाम में स्कॉट , डेड लिफ्ट , बेंच प्रेस, वेट लिफ्टिन सोल्डर प्रेस, आदि व्यायाम करने से  टेस्टोस्टेरोन को बढ़ाया जा सकता है  इन व्यायामों को कम से कम 30 मिनट तक किया जाना चाहिए | 

 

व्यायाम को आप हफ्ते में 3 से 4  दिन करें और अपनी बॉडी को समय-समय पर आराम जरूर दें अच्छी नींद लें वरना अधिक व्यायाम करने और प्रॉपर रेस्ट व डाइट न लेने से आपके शरीर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है, जिससे हार्मोनस डिसऑर्डर की वजह से टेस्टोस्टेरोन बढ़ने की जगह कम भी हो सकता है, कोसिस करें की व्यायाम करने के लिए अपने ट्रेनर की सलाह जरूर लें | 

 

टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने  के लिए तनाव ( Anxiety) से दुरी बनायें 

आज की भाग दौड़ और व्यस्त जीवन सैली के चलते तनाव का लेवल लोगों में बढ़ता जा रहा है, जिसकी वजह से लोगों में टेस्टोस्टेरोन की कमी अक्सर लोगों में देखी जाती है, अधिक तनाव हमारी नींद पर असर डालता है जिससे हार्मोनल डिसऑर्डर होने के चांस ज्यादा हो जाते हैं इससे टेस्टोस्टेरोन की कमी आ जाती है | 

 

 

अगर किसी भी चीज को लेकर आपका तनाव अधिक है या आप ज्यादा चिंताओं से घीरे रहते हैं तो उसके लिए कुछ टिप्स हैं जिनको फॉलो करके आप अपने तनाव को कम करके टेस्टोस्टेरोन को बढ़ा सकते हैं |

1 आप अपने लिए समय जरूर नकलें 

2 रोग 30 मिनट  या 1 घंटे का व्यायम जरूर करें 

3 योग और (मैडिटेशन) ध्यान करें 

4 जो आपको सबसे ज्यादा पसंद हो वो काम करें सिंगिंग,डांस,खेल-कूद,किताबें पढ़ना आदि 

5 तनाव पहुंचाने वाले लोगों से दूर रहें  

6 अच्छे लोगों से मिलें और  बातें करें 

 7 अपने परिवार के साथ घूमने जाएँ और समय बिताएं  

 

टेस्टोस्टेरोन को बढ़ाने के लिए अच्छी नींद लेना जरुरी 

अध्ययनों से यह पता चला है की  युवाओं में टेस्टोस्टेरोन की कमी कारण कम नींद व ख़राब नींद हो सकता है जो व्यक्ति रात को 5 घंटे से कम सोते है उनमें एक सामान्य व्यक्ति की तुलना में 10 से 15 % टेस्टोस्टेरोन की कमी पायी गयी है इसलिए एक सामान्य व्यक्ति को 7 से 8  घंटे की नींद लेना आवश्यक होता है | 

 

टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने के लिए नसे से दूर रहें 

किसी भी प्रकार का नासा  जैसे – गुटका पान मसाला तम्बाकू शाराब हमारे शरीर के लये हानिकारक साबित होता है, कई अध्यन में यह पता चला है कि शराब हमारे टेस्टोस्टेरोन के साथ-साथ मुख्य हार्मोन्स पर सीधा प्रभाव डलता है | 

 

टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने  के आयुर्वेदिक उपाय 

टेस्टेस्टोरॉन बढ़ाने के नेचुरल और आयुर्वेदिक तरीका सबसे बढ़िया होता क्योंकि इसके कोई साइड इफेक्ट नहीं होते और इनका रिजल्ट भी अच्छा होता है, शिलाजीत और अस्वगंधा इन दोनों प्राकृतिक औषधियों का अपनी डाइट के साथ शामिल करके टेस्टोस्टेरोन को बढ़ाया जा सकता है, इन दोनों सप्लीमेंट को रात को सोने के पहले दूध के साथ ले सकते हैं इसकी मात्रा आप डिब्बे पर लिखी हुई डोज़ के अनुसार ले सकते हैं 

 

अगर आप टेस्टेस्टोरॉन बढ़ाने कोई दवाई लेना चाहते हैं तो आपको अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें | 

Leave a Comment