बच्चों का वजन कम करने के व्यायाम डाइट और टिप्स

बच्चों में लगातार बढ़ता मोटापा उनके भविष्य के लिए सही नहीं है मोटापा कई बिमारियों को नेवता देने का कार्य करता है बच्चों में मोटापे के दो कारण हो सकते है पहला है genetic अनुवांशिक ,दूसरा बच्चे के खान पान ,इनमें से कारण कोई भी हो लेकिन बच्चे के स्वस्थ के लिए ठीक नहीं होता है अगर हम बच्चे के बढ़ते मोटापे को गम्भीरता से नहीं लेते तो यह आगे चल कर बच्चे को शारीरिक और मानसिक परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है , हम कुछ ऐसे टिप्स बताएँगे  अगर आप इन टिप्स को फॉलो  करते हैं तो बच्चे की बढ़ी चर्बी कम करने में मदत मिलेगी ।
 
 

बच्चे का उठाने का समय 

बच्चों को उठाने का समय जरूर निश्चित करें ,उठाने के बाद बिना कुछ खिलाये बच्चे को एक गिलास  गुन-गुना पानी पिने की आदत जरूर डलवाएं ।
 

व्यायाम 

 बच्चों को ऐसे खेल खेलने के लिए प्रेरित करें जिनमें भाग दौड़ ज्यादा हो, बच्चे को रोज एक निश्चित  दूरी तक  पैदल जरूर चलवायें हो सके तो आप भी उसको कम्पनी दे सकते हैं, कई  बच्चों को शारीरिक क्रियाएं करना पसंद नहीं होता ऐसे बच्चों को उनके पसंदीदा खेल में कुछ ऐसा बदलाव करें की उसमें बच्चा थके भी और उसका मन भी लगे जिससे वह ज्यादा से ज्यादा कैलोरी ख़त्म करेगा धीरे-धीरे शरीर की चर्बी कम पड़ेगी बच्चों के लिए योग भी फायदे मंद होगा योग करने से बच्चों के शरीर की  flexibility बढ़ती हैं।  
 
 बच्चों का वजन कम करने की डाइट 
ज्यादातर बच्चों में वजन बढ़ने का कारण उनका खान-पान हो सकता है, हमें यह ध्यान देना होगा की बच्चा कोई भी प्रकार का ऐसे  खाद्य पदार्थ  का सेवन न करे जिसमें अधिक कैलोरी , व फैट हो ।
 

बच्चों को क्या  खिलाएं 

बच्चों को शहद में निम्बू का रस मिलाकर प्रतिदिन दिया जा सकता है, बच्चे की  डाइट चार्ट में मलाई निकला हुआ दूध, सब्जियों में ककड़ी ,खीरा ,गाजर ,मूली,तरोई ,लौकी ,पालक आदि  दालों में अरहर दाल  ,चना दाल  ,मुंग दाल , राजमा, छोला आदि शामिल करें , फलों में सेब ,संतरा ,अनानास , आदि|  बच्चों के  शारीरिक विकास के लिए प्रोटीन की आवश्यकता होती है, इसके लिए अंडे का सफ़ेद वाला भाग बच्चों को जरूर खिलाएं अंडा एक क़्वालिटी  प्रोटीन सोर्स है।  
 

बच्चों  को क्या न खिलाएं 

बच्चे को चावल, चीनी, रिफाइंड युक्त खाने से परहेज कराएं , इस प्रकार के खाने से चर्बी बढ़ती है, और जंक फ़ूड, फ़ास्ट फ़ूड, ज्यादा तला हुआ खाना,  चिप्स, बिस्कुट, कोल्ड्रिंक, आदि खाने से बचें क्योंकि ऐसे खाद्य पदार्थों में जरुरत से ज्यादा कैलोरी व ऐसे केमिकल मिले होते हैं जिनकी जरुरत बच्चों को नहीं होती, ऐसे खाद्य पदार्थ बच्चों की रोगप्रतिरोधक छमता को कम करते है, जिसके कारण बच्चे जल्दी-जल्दी बीमार पड़ते हैं।
 

बच्चों की गलत आदतें जो नहीं करनी चाहिए 

बच्चों में कई ऐसी गलत आदतें होती जो कहीं न कहीं बच्चों में वजन बढ़ने में सहायक होती है जैसे ज्यादा रात तक जागना देर तक मोबाइल पर लगे रहना आदि यह आदतें बच्चों में आलस  पैदा करती है जिससे वह शारीरिक रूप से एक्टिव नहीं रहते , खाना कहने के तुरंत बाद पानी पीना, यह आदत बच्चे की  पाचन क्रिया को धीमी कर देती है जिससे खाना सड़ने लगता है और फैट के रूप में शरीर में इकक्ठा हो जाता है ,खाना खाने के 15 -20  मिनट बाद ही पानी पीना चाहिए।

Leave a Comment