मकई (भुट्टा) खाने के इन फायदों के बारे में जरूर जाने

दोस्तों आज हम ऐसे खाद्य पदार्थ के बारे में बात करने जा रहे है जो बच्चों व बड़ों को काफी पसंद है इसमें लगभग सभी  पोषक तत्व  प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हैं, इस खाद्य पदार्थ को हम भुट्टा या मकई  के नाम से  हैं, बरसात के मौसम भुट्टे का स्वाद दोगुना हो जाता है इसमें ज्यादातर लोग स्वाद के लिए भुट्टा खातें है | क्या आप ने कभी भुट्टा खाने से होने वाले फायदे के बारे में सोचा है अच्छी बात इसमें यह है कि एक तरफ जंहा कई खाने वाली चींजे पकने से अपना पोषक तत्व खो देतें है वही भुट्टे को पकाने से इसमें पोषक तत्वों में बढ़ोत्तरी  होती है | आइये अब हम  भुट्टा खाने   के फायदे व नुकसान जानेंगे| 

 1 भुट्टा क्या है (What is Corn)   

 इसे सबसे पहले 16 वीं शताब्दी  मैक्सिको में पैदा किया गया था,  भुट्टे में प्रचुर मात्रा में पोस्टिक तत्व होतें है इस अनाज की बहुत सारी प्रजातियाँ होती है, भुट्टे की दूसरी सबसे महत्वपूर्ण प्रजाती जिसे हम अमेरिकन स्वीट कॉर्न के नाम से जानते है इसका उपयोग हम भूनकर या उबालकर खाने के तौर पर करते है|                

                                                                                                       

 2  भुट्टा या (मकई) के प्रकार (Type of Corn)     

  1.  पॉप कॉर्न 
  2.  स्वीट कॉर्न
  3.  फ्लिंट कॉर्न   
  4.  वैक्सी कॉर्न
  5.   पॉड कॉर्न 
  6.  सॉफ्ट कॉर्न 
  7.  डेंट कॉर्न 

भुट्टे  (मकई)  के फायदे (Benefits of corn)

1. Immunity  बढ़ाने  में मदतगार 

भुट्टा हमरी रोगप्रतिरोधक छमता को बढ़ाने में मदत करता है 

2. muscle  recovery में सहायक

भुट्टे में प्रचुर मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है प्रोटीन हमारे शरीर का दूसरा  ऐसा Nutrients है, जिसकी शरीर को सबसे अधिक आवश्यकता होती है, जो हमारे शरीर की मासपेशियों को टूट- फुट से बचाना व मसल बढ़ाना इसका मुख्य कार्य होता है,

3. आँखों की रोशनी में फायदेमंद 

इसमें जैक्सेथिन नामक एक एंटी ऑक्सीडेंट पाया जाता है जिसके कारण  इसका रंग पीला होता है, उम्र के साथ-साथ आँखों की बढ़ती समस्याओं जैसे मोतिया बिन्द , आँखों का सुखपान, आँखों से पानी निकलना आदि समस्यायों से छुटकारा मिलता है |

4. यादास्त को बढ़ने में मदतगार

मकई में थियामिन प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होता है और उपस्थित Nutrients लाभदायक होता है, इसके अलावा भुट्टे को   यादास्त भी अच्छी हो जाती है ,और अल्जाइमर जैसी बीमारी से मुक्ति मिलती है 

5. ह्रदय सबंधी रोगों से छुटकारा 

मक्के में विटामिनऔर केरेटोनॉइट्स  जो की हमारे कोलेस्ट्रॉल  स्तर  को बढ़ने  नहीं देते है और  शरीर के खून के प्रवाह को संचालित करता है 

6. मोटापा कम करने में साहयक 

भुट्टे को  खाने से पेट भर जाता है  जिससे पुरे दिन के लिए जरुरी  पोषण हमें प्राप्त हो जाते हैं इसको खाने से  बार- बार भूख नहीं लगती है  इसलिए वजन  कम करने में सहायक है| 


 7. कार्बोहाइड्रेट का प्रचुर मात्रा होना 

एक वयस्क व्यक्ति को दिन में 130 ग्राम कार्बोहाइड्रेट की आवश्यकता होती है एक कप में पके भुट्टे में 31 ग्राम कार्बोहाइड्रेट की मात्रा होती है | भुट्टा एक ऐसा खाद्य पदार्थ जो तुरंत ऊर्जा (instant energy) देने का कार्य करता है|  

8 . एनेमियाँ में फायदेमंद

भुट्टे में वितनीं E के साथ-साथ फोलिक ऐसिड पाया जाता है जो एनेमियाँ जैसी बीमारी में  सहायक होता है|  

भुट्टा (मकई) में पोस्टिक तत्व (Nutritious ingredients in corn)

भुट्टे में लगभग सभी जरुरी पौष्टिक तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं , इसमें मुख्या रूप में प्रोटीन व कार्बोहाइड्रेट की मात्रा ज्यादा होती है ,लेकिन इसके प्रोटीन को  (अपूर्ण) आधा अधूरा माना गया है इसका कारण यह है की इसमें आवश्यक एमिनो ऐसिड  ट्रिप्टोफेन ,सिस्टीन ,तथा मिथियोनिन ,आदि ऐसिड कम मात्रा में होते हैं| 

  
100 ग्राम उबले भुट्टे के दानो में निम्नलिखित पोषक तत्वों की मात्रा पायी जाती है 

भुट्टे में पोषक तत्वों की मात्रा (Amount of nutrients in corn)

कैलोरी: 96
पानी: 73%
प्रोटीन: 3.4 ग्राम
कार्ब्स: 21 ग्राम
चीनी: 4.5 ग्राम
फाइबर: 2.4 ग्राम
वसा: 1.5 ग्राम

भुट्टे खाने के नुकसान ( Disadvantages of eating corn) 

जैसा की हम जानते हैं की किसी भी चीज को अधिक सेवन करने से कुछ परेशानियां  हो सकती है भुट्टा हमारे स्वस्थ के लिए लाभदायक होता है लेकिन इसका सेवन कम मात्रा  जाये तो हमारे शरीर के लिए लाभदायक होगा ,यदि आप इसका ज्यादा सेवन करते हैं तो निम्नलिखित परेशानियां हो सकती हैं  


1. भुट्टे में फाइबर की मात्रा अधिक होती है आप यदि इसका अधिक सेवन करते हैं तो पेट में गड़न  ऐठन जैसी समस्यायों का सामना करना पड़ सकता है
 
2. कई  बार लोग मकई को कच्चा खा लेते है जिससे उलटी और पेट में अनेक प्रकार के विकार उत्पन्न हो सकते हैं| 

3. भुट्टा का ज्यादा सेवन करने से पेट में सूजन व गैस जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है
 
4.  भुट्टा मधुमेह से ग्रसित लोगों को पूरी तरह से प्रभावित करता हैं क्योंकि इसमें भरपूर मात्रा में कार्बोहाइड्रेट होता है जो शुगर (चीनी) की मात्रा को बढ़ा सकता हैं | 

 
                                                                                                                       

Leave a Comment

Live Updates COVID-19 CASES