Best five supplements for bodybuilding in Hindi

सप्लीमेंट कभी भी आपके पोषण की गजह नहीं ले सकते हैं लेकिन यह आपके फिटनेस के गोल को पूरा करने में तेजी से मदत करते हैं सप्लीमेंट का काम आपकी घर की नेचुरल डाइट की पोषकता को बढ़ाना  है, लेकिन आपको पहले यह निश्चित करना पड़ेगा की आपका टारगेट क्या है की आप अपनी मसल्स को बढ़ाना चाहते है, फैट लॉस  हैं,या फिर वजन को घटाना चाहते हैं। क्योंकि एक सही निर्णय से ही अपनी काया में बदलाव लाया जा सकता हैं। 


आपको यह भी पता होना चाहिए की आपने अपने शरीर के टैंक में कौन सा ईंधन डाला है आपको ऐसी चीजों का बिलकुल उपयोग नहीं करना है जिनकी आपके शरीर में बहुत ज्यादा  जरुरत नहीं है। 

हम इस पोस्ट के द्वारा आपको ऐसे पाँच सप्लीमेंट के बारे में बताएँगे जो आपके  फिटनेस गोल को पूरा करने में  तेजी से मदत करेंगे। 

1. प्रोटीन सप्लीमेंट Protein Supplement in Hindi 

प्रोटीन हमारे शरीर के लिए बहुत ही मत्वपूर्ण तत्व है। प्रोटीन से हमारे शरीर का निर्माण होता है हमारी मासपेशियों से लेकर त्वचा बाल, नाख़ून आदि चीजों का निर्माण प्रोटीन से होता है। आमतौर पर एक मानव शरीर को प्रोटीन से दैनिक कैलोरी के 10 से 15 प्रतिशत की आवश्यकता होती है। 

एक साधारण इंसान प्रोटीन की पूर्ति अपनी डाइट से कर लेता है लेकिन अधिक शारीरक मेहनत करने वाले लोग जैसे एथलीट,व बॉडीबिल्डिंग करने वाले लोग साधारण डाइट से प्रोटीन की मात्रा को पूरा नहीं कर पाते, इसलिए उनको  प्रोटीन की पूर्ति के लिए अलग से प्रोटीन सप्लीमेंट लेने की जरुरत पड़ती है। 


प्रोटीन सप्लीमेंट की खुराक तेजी से काम करती है और जब आप काम में व्यस्त होते हैं तब भी आप अपने दैनिक प्रोटीन लक्ष्यों को आराम से और आसानी से पूरा कर सकते हैं।

निश्चित समय पर, विशेष रूप से वर्कआउट के बाद, प्रोटीन की खुराक भोजन की तुलना में अधिक फायदेमंद हो सकती है। क्योंकि सप्लीमेंट प्रोटीन जल्दी और आसानी से पच जाता है, अगर आप अपने गोल के प्रति सीरियस हैं प्रोटीन की पूर्ति आप अपनी साधारण डाइट से नहीं पूरी कर पर रहे हैं  तो आपको समय न बर्बाद करते हुए अपनी डाइट में प्रोटीन  सप्लीमेंट ऐड करना चाहिए। 

प्रोटीन कब और कैसे लें Protein Uses in Hindi

प्रोटीन को आप कभी भी ले सकते हैं लेकिन आप जल्दी और अच्छे परिणाम देखना चाहते हैं तो आपको एक्सरसाइज के आधे घंटे बाद ले सकते हैं   प्रोटीन सप्लीमेंट को आप पानी के साथ ले सकते है। 

2. मल्टीविटामिन  multivitamin in Hindi 


मल्टीविटामिन्स एक माइक्रो नुट्रिएंट है इसको हर कोई इस्तेमाल कर सकता है इसके लिए कोई उम्र नहीं होती चाहे वह व्यक्ति जिम जाता हो या न जाता हो  मल्टीविटामिन हर किसी के शरीर के लिए आवश्यक है , अगर आप वर्कआउट करते है जिम जाते हैं तो आपके शरीर के लिए इसकी मांग बढ़ा जाती है। 





आप किसी भी अच्छी ब्रांड का मल्टीविटामिन खरीद सकते हैं लेकिन खरीदते समय ध्यान दें उसमें विटामिन्स और मिनिरल्स दोनों होने चाहिए, मल्टीविटामिन्स की एक डोज दिन में जरूर लें 


3. मछली का तेल  Fish Oil in Hindi

फिश आयल यानि ओमेगा 3 यह एक तरीके  फैटी एसिड होता है ओमेगा 3 तीन फैटी एसिड से मिलकर बने होते हैं, इन एसिड को आपकी बॉडी खुद से नहीं बना पाती, इन एसिड को बाहर से लेना पड़ता है। ओमेगा -3 वसा सबसे अधिक प्रचुर मात्रा में तैलीय मछली, अंडे, घास खिलाया हुए जानवरों और जंगली जानवरों (हिरण, एल्क, आदि) में प्रचुर मात्रा में हैं। ओमेगा -3 फैटी एसिड विभिन्न गैर-पशु उत्पादों में भी मौजूद हैं, जैसे कि ब्राजील नट्स, अखरोट और फ्लैक्ससीड्स।




मछली का तेल एक आवश्यक पूरक  है, चाहे आप मांसपेशियों के निर्माण, वसा को जलाने fat loss  या समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हों।

फिश आयल के फायदे  Benefits  Of Fish oil in Hindi


संज्ञानात्मक क्रिया
सामान्य, स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली काम करती है
दिल दिमाग
स्वस्थ त्वचा
दृष्टिकोण
संयुक्त स्वास्थ्य

3. ब्राँच चेन एमिनो एसिड  BCAA in Hindi 

ब्राँच चेन एमिनो एसिड ल्यूसीन, आइसोल्यूसिन और वेलिन हैं जो की  प्रशिक्षण के दौरान लिया जाता है, BCAA दीर्घकालिक प्रदर्शन में सुधार कर सकता है आपकी मासपेशियों (muscle) की रिकवरी करता है और मासपेशियों को टूटने से बचाता है, जो संभावित रूप से मासपेशियों (muscle growth)  की वर्द्धि के लिए होता है। 

BCAAs लेने के फायदे  Benefits  of BCAA in Hindi

ऊर्जा बढ़ाएं
प्रोटीन संश्लेषण में वृद्धि
शक्ति और शक्ति बढ़ाएँ
मांसपेशियों के निर्माण की क्षमता में सुधार

स्वाभाविक रूप से प्रोटीन में उच्च खाद्य पदार्थों में पाया जाता है, BCAA पहले से ही एक आहार का हिस्सा हैं। हालांकि, बीसीएए विशेष रूप से बढ़ी हुई ऊर्जा, कम मांसपेशियों के टूटने और सुधार के लिए व्यायाम (workout)  के दौरान उपयोगी होते हैं।

BCAA कब और कैसे लेना चाहिए Uses of BCAA in Hindi

BCAA को आप अपने वर्कआउट के पहले ले सकते है या वर्कआउट के दौरान और वर्कआउट के बाद भी ले  सकते हैं। अब बात करते है इसके डोज़ के बारे में, BCAA को 5 से 10 ग्राम तक लिया जा सकता है अगर आप शुरुआत कर रहे हैं तो आपको 200 ग्राम पानी में 5 से 7 ग्राम BCAA को मिक्स करके लिया जा  सकता है। लेकिन ध्यान रहे BCAA तभी लेना है जब आप बहुत अधिक वर्कआउट कर रहे हों, प्रतिदिन नहीं लेना है। 

4. ग्लूटामाइन  glutamine in Hindi

ग्लूटामाइन एक अडाप्टोजोनिक एमिनो एसिड है जो की प्रोटीन में  पाया जाता है। यह हमारे शरीर के कंकाल की  मसल्स  में  प्रचुर मात्रा में एमिनो एसिड पाया जाता है ग्लूटामाइन आपकी रोगप्रतिरोधक छमता को  महत्व पूर्ण रोल निभाता है ग्लूटामाइन के मसल्स निर्माण के अलावा बहुत सारे फायदे हैं। 

ग्लूटामाइन लेने  के  फायदे Benefits  of Glutamine in Hindi

मांसपेशी विकास
कम मांसपेशियों में अपचय
सामान्य, स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली काम करती है
पेट का स्वास्थ्य

ग्लूटामाइन वर्कआउट के बाद विशेष रूप से फायदेमंद होता है क्योंकि इसमें इंसुलिन release के बिना व्यायाम के दौरान खोए गए मांसपेशी ग्लाइकोजन और ग्लूटामाइन के स्तर को फिर से संश्लेषित करने की क्षमता होती है।

यह उन लोगों के लिए बहुत अच्छा  है जो प्रति सप्ताह कई बार कसरत करते हैं, खासकर कम कार्ब आहार पर।  !तो  ग्लूटामाइन के साथ आप वर्कआउट शुरू कर सकते हैं। 

ग्लूटामाइन  कब और कैसे लें Uses of Glutamine 

ग्लूटामाइन को ग्लूकोस या प्रोटीन के साथ लिया जा सकता है इसको अपनी मिल के बाद भी ले सकते हैं। बात करें इसकी डोज के बारे में तो जैसा की हमने ऊपर बताया हुआ है की आपका गोल क्या है आप कितना भारी और कितनी देर तक वर्कआउट करते   वो आप पर निर्भर करता है। इसकी डोज 5 से 15  ग्राम होती है लेकिन अगर आप शुरुआत कर रहे हैं तो आपको 5 ग्राम से सुरु करना चाहिए। 


5. क्रिएटिन  Creatine in Hindi

क्रिएटिन बाजार में सबसे अच्छी तरह से अध्ययन किए गए पूरक Suppliment में से एक है। इसे स्प्रिंट समय में सुधार और उच्च तीव्रता गतिविधि में लगे एथलीटों के प्रदर्शन को बढ़ावा देने के लिए काम करता है, जैसे कि भारोत्तोलन और शक्ति प्रशिक्षण।





क्रिएटिन  एक ऐसा सप्लीमेंट है जिस पर सबसे अच्छे से अध्यन किया गया है। इस सप्लीमेंट  द्वारा आप अपनी स्पीड व स्ट्रेंथ को काफी हद तक बढ़ा  सकते हैं, यह सप्लीमेंट एथलीटों के प्रदर्शन को बढ़ावा देता है। 

क्रिएटिन के फायदे  Creatine benefit in Hindi

क्रिएटिन वर्कआउट के दौरान अधिकतम शक्ति और ऊर्जा उत्पादन को बढ़ावा दे सकता है, जिससे आप अधिक समय तक भारी वर्कआउट कर पाते हैं यह एक “सेल वोल्युमाइज़र” के रूप में भी काम करता है, जो मांसलता (muscles) को बढ़ाता है।

क्रिएटिन लिवर, किडनी और अग्न्याशय में पाए जाने वाले एमिनो एसिड मेटाबोलाइट्स का उप-उत्पाद है। लगभग 95 प्रतिशत क्रिएटिन कंकाल की मांसपेशी में जमा होता है, और शेष पांच प्रतिशत यकृत, गुर्दे, मस्तिष्क और वृषण में होता है।


जबकि बाजारों में क्रिएटिन कई तरह के उपलब्ध हैं लेकिन सबसे लम्बे समय तक चलने वाला क्रिएटिन मोनोहाइड्रेट क्रिएटिन है जिस पर सबसे अच्छा परीक्षण हुआ है। 

क्रिएटिन कब और कैसे लें Uses of Creatine in Hindi

क्रिएटिन लेने में अभी भी लोगों के बिच संशय बना हुआ है किसी का मत है इस सप्लीमेंट को वर्कआउट के पहले लेना चाहिए और किसी का मत है वर्कआउट के बाद लेना अच्छा होता है, लेकिन ऐसा कुछ नहीं होता है आप क्रिएटिन को कभी भी ले सकते हैं, लेकिन सबसे अधिक मत है की क्रिएटिन को वर्कआउट के बाद लेना सबसे अच्छा माना जाता है। 

एक बात और बता दूँ अगर आप  क्रिएटिन ले रहे हैं तो आपको इसके रिजल्ट  तुरंत नहीं देखने को मिलते आपको थोड़ा संयम रखना पड़ेगा क्रिएटिन आपकी बॉडी में कम से कम दो सप्ताह बाद काम करना सुरु करता है। 

नोट – आपको यह ध्यान रखना है अगर आप क्रिएटिन या ग्लूटामाइन  सप्लीमेंट ले रहे हैं तो आपको पानी खूब पीना चाहिए जिससे वह अच्छे से काम  कर पाएंगे। 


और पढ़ें –




Leave a Comment