बादाम खाने के अतुल्य लाभ व उपयोग

बादाम का परिचय

अक्सर लोंगों को कहते सुना होगा की बादाम खाया करो यादास्त तेज होती है या  जड़ों में बादाम खाना बहुत फायदेमंद होती है ।  तो उनका कहना बिलकुल सही है लकिन हम सोचते है की मवे खाने से वजन में व्रद्धी होती है ये सोचना बिलकुल गलत होती है । बादाम  सूखे मवे में अता है लकिन इसको खाने से वजन में वृद्धि नही होती है ।

सूखे मेवे में बादाम बहुत उच्च कोटि का मेवा है सूखे मेवे में से सबसे पोस्टिक बादाम होता है । बादाम मग्निसियम , प्रोटीन , व आयरन भरपूर मत्रा में पाया जाता है । एक शोध के दौरान यह पाया गया है की बादाम खाने वाले ब्यक्ति की अपेक्षा २०% आयु अधिक होती है । बादाम न खाने वाला ब्यक्ति 40 वर्ष जीवित रहेगा बादाम खाने वाल ब्यक्ति 50 वर्ष जीवित रहेगा ।

बादाम का पेड़ 

बादाम का पेड़ निम्न वर्षा वाले सथानो पर व गर्म सथानो पर पाया जाने वाल पेड़ है । प्रथ्वी के भू – भाग मध्य पूर्व के देश व साउथ एशिया में उगाया जाता है । एक ऐसा स्थान जंहा ठण्ड बहुत  कम व गर्मी बहुत अधिक पाई जाती है वंहा इस पेड़ को उगाया जा सकता है और वंहा वर्षा भुत कम मात्र में होनी चाहिए । इस पेड़ ठंढे प्रदेशों में नही उगाया जा सकता है ।

 

badam ka pet almonds tree

 

बादाम में पाए जाने पोष्टिक तत्व

40 ग्राम बादाम में निम्नलिखित पोषक तत्व पाए जाते है 

1. मग्निशियम = 21%

2. मैगनीज = 34%

3. फट = 15 gm

4. फाइबर = 3.8 gm

5. प्रोटीन = 7 gm

6. विटामिन E = 40%

इसके अतिरिक्त इसमें फास्फोरस और विटामिन B2 भी पाया जाता है यानि की मात्र 40 ग्राम बादाम में इतने पोषक तत्व मिलते हैं, इसमें 162 कैलोरी व 2.5 ग्राम कार्बोहाइड्रेट पाया जाता है ।

बादाम खाने के फायदे 

रात में पानी में बादाम भिगो दें और भीगे बादाम का सेवन करने से अनेक फायदे होते हैं ।

1. शारीर की खोयी हुई उर्जा पाने के लिए बादाम की गिरी को पीसकर दूध में उबालकर पिने से तुरंत उर्जा मिलती है ।

2. जो बच्चे बोलना सिख रहें हो या जो बच्चों की उम्र 3-6 साल के बिच में हों तो भीगे बादाम व माखन के साथ खिलाने पर बच्चे बोलने लगते है।

बादाम में कमर दर्द में फायदेमंद 

यदि आप कमकमर दर्द में  फायदेमंद र दर्द से परेसान हैं तो  बादाम आपकी कमर दर्द के इलाज के लिए रामबाण साबित हो सकता है

दांतों के लिए फायदेमंद  

दांतों की कई परेशानियों से जूझ रहे लोगों के लिए बादाम की गिरी को भुनकर मंजन तैयार कर लें और उस मंजन को प्रतिदिन प्रयोग करें दांतों की समस्या से राहत मिलेगी।

कानो की सुनने की छमता बढ़ने में फायदेमंद 

यदि आपको कान से  कम सुने सेने का भय है तो आप बादाम रोगन की एक-एक बूंद कण में प्रतिदिन डालने से एस समस्या से छुटकारा मिलेगा ।

औरतों में लिउकोरिया बीमारी में फायदेमंद 

औरतों में लिउकोरिया बीमारी हो जाने पर बादाम की गिरी रात को भिगो दे और सुबह होते ही उसी गिरी को खिलाने से लिउकोरिया बीमारी में काफी फायदेमंद होता है ।

दिमागी सकती को बढाने में फायदेमंद 

एक शोध के अनुसार पता चल है की प्रतिदिन 4-7 बादाम खाने से टॉनिक के रूप में कार्य करता है, यानि हमारी तंत्रिका  तंत्र  की सक्ति को बढ़ता है।

गर्भावस्था में फायदेमंद 

यदि महिलाये गर्भवस्था के दौरान बादाम को अपने आहार में शामिल करती हैं तो उनके पेट में पल रहे बच्चे व उन्हें स्वस्थ रखने में सहायता प्रदान करता है ।

रक्तचाप में फायदेमंद 

हाई ब्लड प्रेसर वाले लोगों को बादाम का सेवन करने से बहुत ही लाभकारी होता है बादाम में प्रोटीन पोटैसियम, व मैग्निसियम, का एक एकच स्रोत है जो हमारे ब्लड प्रेसर को नियंत्रित करता है।

मधुमेह रोगियों के लिए फायदेमंद 

भीगे बादाम बधुमेह रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद होता है, यह सुगर को कंट्रोल करता है और भी कई बिमारियों से बचाता है।

 सूखे बादाम खाने के नुक्सान 

बादाम को कुछ लोग सुखा खाना पसंद करते हैं कुछ लोग भीगा बादाम खाना  पसंद करते हैं, तो ऐसा क्यों है इसके पीछे क्या कारण है सूखे बादाम के छिलके को पचा पाना काफी मुस्किल होता है बादाम के छिलकों में टेनिन नामक एक तत्व पाया जाता है जो बादाम के पोषक तत्वों को  आवसोशण करने से रोकता है लेकिन जब बादाम को भिगोकर खाने से उसका छिलका निकल जाता है, और उसके सरे पोषक तत्व शरीर को मिल जाते हैं ।

भीगे बादाम का पानी पिने के फायदे 

1. कमजोरी को दूर करने में फायदेमंद।

2. दिल के सभी रोगों को हारने में फायदेमंद।

3. इसमें कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने के गुण होते हैं।

4. बादाम में प्रोटीन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, तो इसका पानी पिने से मासपेशियों में वर्द्धि करता है।

5. बादाम के पानी में फाइबर होआ है जो बढ़ते वजन को नियंत्रित करने में सहायता मिलती है ।

बादाम खाने के नुक्सान 

बादाम खाने के अनेक सारे फायदे है लेकिन इसकी अधिक मात्र में सेवन करने से कुछ नुक्सान देखने को मिलते है।

1. जिन व्यक्तियों को पित्ताशय एवं किडनी की समस्या है तो बादाम का सेवन बिलकुल नहीं करना चाहिए।

2. यदि आप कड़वे बादाम का सेवन करते है तो आपके तंत्रिका तंत्र को मंद बना सकते हैं तथा साँस से सम्बंधित विकार उत्पन्न हो सकते हैं ।

3. एक औंस में करीब 14-15 ग्राम फैट, व 162 कैलोरी पाई जाती है यदि आप इसका अधिक मात्र में सेवन करते है तो कलोरी को जलाने में असमर्थता होगी, जिससे आपके अन्दर फैट बढ़ने के साथ-साथ वजन में तेजी से वर्द्धि होगी।

4. जो लोग बादाम का अधिक मात्रा में उपयोग करते हैं उनको स्वांस से सम्बंधित विकार उत्पन्न हो जाते है ।

बादाम की तासीर

बादाम की तासीर गर्म होती है यही कारणहै की लोग बादाम को ठंडियों में खाना पसंद करते हैं, गर्मियों में बादाम का सेवन अधिक मात्र में नहीं किया जा सकता है, किन्तु गर्मियों में थोड़ी सी मात्र में बादाम भिगोकर  खाने से नुक्सान देह नहीं होता है ।

बादाम खाने का सही समय क्या है 

बादाम का सेवन करने से पहले आपको यह पता होना चाहिए की बादाम को अपने आहार में शामिल करने का मुख्य कारण क्या है।

1. यदि आपको नींद न आने की समस्या है तो बादाम कासेवन रात को सोने से पहले करना चाहिये, बादाम में मैग्निसियम प्रचुर मात्र में पाया जाता है जो नींद लेन में मदत करता है।

2.यदि आपको खेल के छेत्र में अच्छा प्रदर्सन करना चाहते है तो आपको बादाम को सुबह खाना चाहिए ।

3 यदि आप बादाम का सेवन हर्दय की समस्या के लिए करना चाहते हैं तो आपको बादाम का सेवन दिन के समय करना चाहिए।

बादाम का हलवा 

भारतीय परम्पराओं के अनुसार बादाम का हलवा भिन्न- भिन्न  त्योहारों में बनाया जाता है, बादाम केव हलवे को किसी भी मौसम में आप खा सकते हैं लेकिन इसे ठण्ड के दिनों में लोगों को काफी पसंद है, बादाम के हलवे में भरपूर मात्रा में पोषक तत्व पाए जाते हैं यही कारण है की आप इसे अधिक मात्रा में नहीं खा सकते।

बादाम का हलवा बनने की विधि 

सामग्री 

  1. एक कप बादाम 
  2. आधा कप देसी घी
  3. एक तिहाई कप गाय या भैंस का दूध 
  4. एक चम्मच तहँ का आंटा
  5. एक तिहाई कप चीनी 
  6. थोड़ी मात्रा में केसर 
  7. दो  बड़े चम्मच बादाम का कतरन

विधि 

  1. हलवा बनाने के लिए सबसे पहले गहरे बर्तन में जरुरत के अनुसार पानी में बादाम डालकर 8 से 9 घंटे तक भीगने दें फिर उस पानी को छान लें और बादाम के छिलके छीलकर अलग रख लें।
  2. सूखे बादाम मिक्सी में पीस लें यदि आपके पास मिक्सी उपलब्ध न हो तो सिलवटटा का प्रयोग कर सकते हैं, ध्यान रहे बादाम को दरदरा  पीसें एकदम महीन न करें ।
  3. उसके बाद में एक नॉन स्टिक कड़ाही में घी को गर्म करें फिर बादाम का मिश्रण डालकर सही तरीके से मिला लें, तथा इस अंतराल में धीरे- धीरे मिलते हुए मध्यम आंच पर 7 – 8 मिनट तक पकाएं ।
  4. आपको एक बर्तन में दूध और पानी को मिला लें (आधा कप) 3 से 5 मिनट तक उबालें ।अब आप बादाम के मिश्रण को गेहूं के नाते में अच्छी तरीके से मिला लें और इसी बिच मध्यम आंच पर पका लें।
  5. अब सामग्री को दूध व पानी के साथ अच्छे से मिलाएं, तथा माध्यम आंच पर कम से कम 5 मिनट तक पकाएं ।अब हलवे की सामग्री को चीनी में अच्छी तरह से मिलाकर फिर 5 से 6 मिनट धीमी आंच पर पका लें ।
  6. इसके बाद हम अब सामग्री में केसर डालेंगें, थोड़ा सा केसर हलवे की सामग्री में मिला लें और फिर हिलाते हुए धीमी आंच पर पकाएं ।अब हलवे की सामग्री को चूल्हे से हटाकर इलाइची को ठीक तरीके से मिला लें ।
  7. अब आपका हलवा तैयार हो चूका है, अब आपको एक काम और करना होगा बादाम का कतरन उस हलवे पर सजाने के लिए बंद डिब्बे में डालकर प्रयोग करें । 

 

तो अपने देखा की बादाम के कितने सारे अतुल्य लाभ है अब आप पर निर्भर करता है की आप बादाम को किस प्रकार से प्रयोग में ला सकते हैं यह पोस्ट कैसा लगा हमें कमेंट करके अपनी राय दे सकते हैं।

 

 

Leave a Comment

Live Updates COVID-19 CASES