किशमिश के अचंभित कर देने वाले फायदे और उपयोग

किशमिश के स्वाद के बारे में हर कोई को जानकारी होगी किन्तु इसके महत्वपूर्ण लाभों के बारे में नहीं जानते है किशमिश मात्र मिठाश तक सिमित नहीं बल्कि विभिन्न प्रकार के रोंगों से लड़ने में मददगार साबित हो सकती है। पाचन तंत्र से लेकर शारीरिक उर्जा बढ़ाने में किशमिश का प्रयोग किया जाता है, लेकिन किशमिश बिमारियों में एक  सीमा तक कार्य करती है।

 

mydailyhealth  के इस लेख से किशमिश के फायदे व नुकसान के बारे में सटीक जानकारी मिल पायेगी । किशमिश से किसी भी बीमारी का इलाज नहीं किया जा सकता कोई गंभीर बीमारी के होने पर डॉक्टर की सलाह अवश्य लेना चाहिए।

किशमिश क्या है ?

सूखे हुवे छोटे आकर या मीडियम साइज के अंगूरों को जिसमे बीज बिलकुल न के बराबर हो उसको हम किशमिश कहते है। सबसे पहले बात करें किशमिश की उत्पत्ति की तो लैटिन भाषा के रेसमस से हुवी है। जिनमे  बीज नहीं होते है तथा उनका रंग भूरा होता है उन्हें किशमिश कहते हैं। जिनमे बीजों की मात्र 2-3 होती है और वह काले रंग के होते है उन्हें हम मुनक्का कहते है।

किशमिश का पेड़

सबसे पहले बात करें किशमिश के पेड़ की तो बता दें की किशमिश का कोई पेड़ नही होता दरअसल यह है  अंगूर के पौधे से ही किशमिश का निर्माण किया जाता है । अधिकतर लोंगों ने देखा होगा कि अंगूर के पौधे में अंगूर के गुच्छे लटकते  नजर आएंगे , इन्ही अंगूरों को सुखा कर किशमिश में परिवर्तित किया जाता है।

किशमिश में पाए जाने वाले पोषक तत्व

यदि बात करें पोषकतत्वों की तो किशमिश में भांति -भांति प्रकार के पोषक तत्व् मौजूद होते है । जैसे – कि सर्करा , सोडियम , पोटैसियम , सिट्रिक एसिड , फ्लोरोइड , पोटैसियम सल्फेट तथा आयरन तत्वों से भरपूर  होती है। यदि बात करें विटामिन की तो इसमें जादा मात्रा में  विटामिन A पाया जाता है।

किशमिश खाने के फायदे

1. खोई हुई उर्जा पाने में फायदेमंद

किशमिश में पाया जाने वाला सबसे महत्वपूर्ण तत्व कार्बोहइड्रेट है । यह शारीरिक क्रीया के दौरान हमारे शरीर को उर्जा प्रदान करता है । इसका इस्तेमाल प्रतिदिन क्रियाशील खिलाडियों के द्वारा किया  जाता है।

वजन नियंत्रण में फायदेमंद

यदि बात करे वजन नियंत्रण की तो इसमें किशमिश को कुछ हद तक महारथ हासिल है । NCB की एक टीम के दवरा एक शोध के दौरान यह पाया जाता है कि किशमिश में drytifyber तथा प्रिबायोटिक पाए जाते है , ऐसे तत्व हमारे स्टमक में अच्छे बक्टिरिया का निर्माण करते है । यह बक्टिरिया वजन को नियंत्रित करते है । इसके आलावा आप डेली exersize  व योग करने से भी वजन को नियंत्रित किया जा सकता है इसके साथ साथ अपने दैनिक आहार में संतुलित भोजन को भी सामिल करना होगा ।

ह्रदय के लिए फायदेमंद

यदि बात करें ह्रदय को स्वस्थ रखने की तो किशमिश कुछ हद तक ह्रदय को स्वस्थ रख सकता है । नेशनल सेण्टर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इनफार्मेशन की वेबसाइट पर एक शोध के दौरान यह बतया गया किशमिश ख़राब कोलेस्ट्रोल को कम कर सकती है ,  ख़राब कोलेस्ट्रोल की वजह से होने वाले ह्रदय रोंगों के जोखिम से बचा सकती है । इसमें  सबसे महत्वपूर्ण तथ्य यह किशमिश में कौन सा ऐसा तत्व मौजूद है जो इस पर कम करता है।

कब्ज में फायदेमंद

आम तौर पर देखा गया है कि 30 वर्ष की उम्र के उपर के लोंगो को कब्ज की समस्या रहती है ।इससे  छुटकारा पाने के लिए आप किसमिश का सहारा ले सकते है । किशमिश एक ऐसा खाद्य पदार्थ है जो गैस में आराम देता है  किशमिश में alkine  गुण उपस्थित होते है जो हमारे पेट में होने वाली कब्ज या गैस को सामान्य  करने में मदद करता है।

एनेमियां में फायदेमंद

एनेमियां रोग होने का मुख्य कारण आयरन की कमी का होना। इस बीमारी में RBC  का निर्माण होना बंद हो जाता है इन्ही किशिकाओं द्वारा ऑक्सीजन की suply हमारे शरीर में नहीं हो पाती। किशमिश में भरपूर मात्र में आयरन की उपस्थित होने के कारण एनेमियां से छुटकारा पाया जा सकता है ।

संक्रमण से बचाता है

किशमिश में ऐसे गुण होते है जो बाहरी वातावरण में उपस्थित संक्रमण से लड़ने में सहायता प्रदान करता है , जैसे कि antimicrobial तथा एन्टीबैक्टिरीअल  इसके अतिरिक्त किशमिश में मौजूद अर्क जो oralbactiria जो मुंह को स्वस्थ रखने में मददगार है ।

बालों के लिए मददगार

बालों को नुकशान पहुचाने  में जो मुख्य भूमिका फ्री रेडिकल्स की होती है । जैसे कि बालों का रुखापन बालों का झाड़ना तथा बालों का समय से पहले सफ़ेद होना जैसी समस्याएं होती है । फ्री रेडिकल्स से बचने के लिए आप किशमिश का प्रयोग कर सकते है । किशमिश में एन्टिओक्सीडेंट के गुण होते है जो फ्री रेडिकल्स की समस्या से निपटने में सहायक है।

कैंसर से बचाव में फायदेमंद

किशमिश का उपयोग कैसे करें

1 किशमिश को आप सीधे तौर पर खा सकते है ।

2 किशमिस को आप दूध के साथ मिलाकर कर सकते है

3 किशमिश का उपयोग आप खीर में मिलाकर कर सकते है ।

4 किशमिस को आप ओट्स के साथ मिलाकर कर सकता है ।

5 इसको आप सलाद में मिलाकर कर सकते है ।

6 शाम को पानी में भिगोकर सुबह नास्ते या ओट्स , दलिया में मिलाकर किया जा सकता है ।

कितनी मात्रा में किशमिश का सेवन कर सकते है ?

प्रतिदिन किशमिस खाने की मात्रा 60-90 ग्राम ले सकते है ।किशमिस में चीनी होने के कारण मधुमेह रोगियों को डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए ।

किशमिस खाने से होने वाले नुकशान

किशमिस की अधिक  मात्र में सेवन करने से निम्नलिखित नुकशान भी हो सकते हैं ।

1 मधुमेह का खतरा

2 डायरिया

3 गैस बनने का खतरा

4 एलर्जी बनने का खतरा

5  अचानक वजन में वर्द्धि होने  का खतरा

तो अपने देख  ही लिया की किसमिस के इतने सारे फायदे हैं हुए साथ ही साथ किसमिस के बारे में पूर्ण जानकारी भी मिल गयी, यह जानकारी आपको कैसी हमें कमेंट करके अपनी राय दे सकते हैं। 

और पढ़ें

नारियल के आश्चर्य चकित कर देने वाले फायदे

गुलकंद क्या? गुलकंद कैसे बनाते हैं व गुलकंद के स्वास्थ्य लाभ

बादाम खाने के अतुल्य लाभ व उपयोग

काजू के अनेक फायदे health benefit of kaju in hindi

ओट्स खाने के बेहतरीन लाभ और उपयोग Health Benefits Of oats

चुकंदर के फायदे, जाने कैसे प्रयोग में लाएं चुकंदर Health Benefits of Beetroot

 

 

Leave a Comment

Live Updates COVID-19 CASES